Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम at लम्हों का सफ़...
रिश्ते(10 हाइकु)  *******   1.   कौन समझे   मन की संवेदना   रिश्ते जो टूटे।   2.   नहीं अपना   कौन किससे कहे   मन की व्यथा।   3.   दीमक लगी   अंदर से खोखले   सारे ही रिश्ते।   4.   कोई न सुने   कारूणिक पुकार   रिश्ते मृतक।   5.   मन है ट...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   11:02pm 14 Oct 2019
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
      मैं अपनी बहिन के घर गई हुई थी; दोपहर के भोजन के समाप्ति के समय मेरी बहिन ने अपने बेटी से कहा कि अब उसके जाकर सोने का समय हो गया है। मेरी वह तीन वर्षीय भांजी चौंक गई, उसकी आँखों में आँसू आ गए, और उसने शिकायत की, “लेकिन आंटी मोनिका ने मुझे अभी तक तो गोद में लिया ही नह...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   8:45pm 14 Oct 2019
Blogger: shalini kaushik at ! कौशल !...
बयान / भागवत ने कहा- भारत हिंदुओं का देश, इसीलिए दुनिया में सबसे सुखी मुसलमान यहां मिलेंगे.     देश पर जान कुर्बान करने वाले, देश का संविधान बनाने वाले, देश का नव निर्माण करने वाले जिस भावना के लिए अपनी सारी ऊर्जा लगा गए उसे मिटाने के लिए आरंभ से प्रयत्नशील आर. एस. एस. को ...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   6:19pm 14 Oct 2019
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
संयुक्त राष्ट्र में इमरान खान के भावुक प्रदर्शन के बाद पाकिस्तान में सवाल उठ रहा है कि अब क्या?इस हफ्ते जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट ने नियंत्रण रेखा पर मार्च किया। शहरों, स्कूलों और सामाजिक-सांस्कृतिक संस्थाओं में कश्मीर को लेकर कार्यक्रम हुए। पर सवाल है कि इससे क्या...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   4:44pm 14 Oct 2019
Blogger: Niranjan at Reflection of thoughts . . ....
११ (अन्तिम): इस यात्रा का विहंगावलोकन  इस लेखमाला को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए| ७ अगस्त की सुबह बससे लोसर से निकला और शाम को मनाली पहुँचा| वास्तव में इस पूरी यात्रा का यह हिस्सा ही सबसे अधिक डरावना और रोचक भी लगा| बहुत ज्यादा बरफ भी‌ करीब से देखने का मौका मिला| अ...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   4:07pm 14 Oct 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at शरारती बचपन...
लहू बोलता भी है जमात - ए - उलमा -ए हिन्द और उल्माओ के आन्दोलन भागउलेमाओं की राय थी की अब जो हालात है , उसके मुताबिक़ सिर्फ मुसलमानों के आन्दोलन से अंग्रेज को मुल्क से बाहर कर पाना मुश्किल ही नही बल्कि नामुमकिन है | इसी दौरान जालियाँवाला बाग़ के हादसे ने खुद - ब खुद हिन्दू मुसल...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   2:50pm 14 Oct 2019
Blogger: Ravindra K Ranjan at My Letter...
डियर पैरेंट्स,मैं जानता हूं आप इसको लेकर बहुत बेचैन हैं कि आपका बेटा इम्तिहान में अच्छा प्रदर्शन करे, लेकिन ध्यान रखें कि यह बच्चे जो इम्तिहान दे रहे हैं इनमें भविष्य के अच्छे कलाकार भी हैं जिन्हें गणित समझने की बिल्कुल जरूरत नहीं। इनमें बड़ी-बड़ी कंपनियों के प्र...
clicks 2 View   Vote 0 Vote   2:31pm 14 Oct 2019
Blogger: Swaroop Singh at Barmer news track...
barmer history. barmer ka pura ithas. barmer news track...
clicks 4 View   Vote 0 Vote   12:36pm 14 Oct 2019
Blogger: Anshu Mali Rastogi at चिकोटी...
'इतनी भीषण मंदी है और तुम मंदी पर कविता लिख रहे हो! लानत है तुम पर। तुम्हें यह कविता नहीं लिखनी चाहिए। मैं क्या मर गई हूं मुझ पर कविता नहीं लिख सकते।'बीवी ने डांट पिलाई।'इतना बिगड़ने की क्या जरूरत है। कविता मंदी पर ही तो लिख रहा हूं, पराई स्त्री के हुस्न पर थोड़े।'मैंने भी जव...
clicks 5 View   Vote 0 Vote   9:36am 14 Oct 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--भाव सुप्त अब हो गये, हुई शायरी बन्द।नहीं निकलते कलम से, नये-पुराने छन्द।। --अँधियारा छाने लगा, गया भास्कर डूब।लिखने-पढ़ने से गया, मेरा मन अब ऊब।।-- थकी हुई है लेखनी, सूखे कलम-दवात।वृद्धावस्था में नहीं, यौवन जैसी बात।।-- मंजिल से पहले हुए, डगमग दोनों पाँव।जाने कित...
clicks 4 View   Vote 0 Vote   5:00am 14 Oct 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Hot List : Hamarivani.com - Mobile
Hot List: (Latest Populer Posts)
Latest
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019