Blogger: रश्मि at रूप-अरूप...
नहीं, बिल्कुल नहीं भीगी थी बारिश की फुहारों में मगर पसलियों में अकड़न है ऐंठ रही पिंडलियांताप बढ़ता ही जाता हैफूलदान में सजे रजनीगंधा सेकोई ख़ुशबू नहीं आतीबेस्वाद है सबबड़बड़ाहट तेज़ हुई जा रहीहाँ, नहीं जी सकती तुम्हारे बिनाभूलना असम्भव हैपास आओ, रख दो माथे ...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   2:31pm 17 Jul 2018
Blogger: दिगम्बर नासवा at स्वप्न मेरे ......
चूड़ियाँ कुछ तो लाल रक्खी हैं जाने क्यों कर संभाल रक्खी हैंजिन किताबों में फूल थे सूखे शेल्फ से वो निकाल रक्खी हैं  हैं तो ये गल्त-फहमियाँ लेकिन चाहतें दिल में पाल रक्खी हैं बे-झिझक रात में चले आना रास्तों पर मशाल रक्खी हैं वो नहीं पर निशानियाँ उनकी यूँ ही बस साल साल रक...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   12:51pm 17 Jul 2018
Blogger: rewa tibrewal at प्यार ...
मत करो अब मुझसे वो पहली सी उम्मीद की नहीं दे पाऊँगी अब कुछ भी तुम्हें ...जानते हो जब दर्द हदें  तोड़ देता है तो बदले में बहुत कुछ ले भी लेता है मुस्कान तो आज भी खेलती है होठों पर लेकिन सुकून -ए- दिल नहीं है आंसुओं का इन आँखों में काम नहीं अब कोई पर ...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   11:30am 17 Jul 2018
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
पत्रिका एवं पुस्तकों का विमोचन       खटीमा (ऊधमसिंहनगर) 15 जुलाई, 2018 को साहित्य शारदा मंच, खटीमा द्वारा ब्लॉक सभागार, खटीमा (ऊधमसिंहनगर) मेंअपराह्न 2 बजे से पुस्तक विमोचन एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमेंडॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'के व्यक्तित्व-कृति...
clicks 5 View   Vote 0 Vote   7:40am 17 Jul 2018
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
मित्रों!  मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  -- उत्तराखण्ड की सांस्कृतिक धरोहर   “हरेला”  उच्चारण  -- किसी किसी आदमी की सोच में   हमेशा ही एक हथौढ़ा होता है  उलूक टाइम्स पर  सुशील कुमार जोशी   -- पथ न ...
clicks 6 View   Vote 0 Vote   3:00am 17 Jul 2018
Blogger: माधवी रंजना at DAANA PAANI...
जोगणिया माता के दर्शन के बाद मैं आगे की यात्रा के लिए बस का इंतजार कर रहा हूं। पर दो घंटे इंतजार के बाद बस नहीं आई। यहां से हाईवे पर पहुंचने के दो रास्ते हैं 20 किलोमीटर दूर काटूंदा मोड़ या फिर 7 किलोमीटर दूर मेनाल। एक स्थानीय दुकानदार ने सलाह दी अब बस आने की उम्मीद नहीं है...
clicks 9 View   Vote 0 Vote   12:30pm 16 Jul 2018
Blogger: प्रमोद जोशी at Gyaankosh ज्ञानकोश...
इससे आशय भारतीय संसद के मॉनसून सत्र से है. आमतौर पर हर साल हमारी संसद के तीन सत्र होते हैं. बजट (फरवरी-मई), मॉनसून (जुलाई-अगस्त) और शीतकालीन (नवंबर-दिसंबर). इस साल मॉनसून सत्र 8 जुलाई से 10 अगस्त तक चलेगा. इसबार मॉनसून सत्र के दौरान ही राज्यसभा के नए उप-सभापति का चुनाव होना है. प...
clicks 11 View   Vote 0 Vote   9:52am 16 Jul 2018
Blogger: Kavita Rawat at KAVITA RAWAT...
स्वामिनारायण अक्षरधाम! भारतीय संस्कृति और अध्यात्म के ज्योतिर्धर के रूप में अवतरित भगवान स्वामिनारायण का शाश्वत निवास-धाम है। दिल्ली के पावन यमुना-तट पर जहाँ ऊबड़-खाबड़ झाडि़यों से युक्त विशाल बंजर भूमि थी, वहां मात्र पांच वर्ष में पलक झपकते सम्पन्न हुआ कल्पनातीत ...
clicks 16 View   Vote 0 Vote   8:00am 16 Jul 2018
Blogger: Sanjay Grover at (W)hues Me?...
Short Storycreated by sanjaygrover+"Do you want any help ?""Are you you free to help someone ?""................""Ok, first I must try to free you so that you may help me.""Oh thanks, you could understand me finally."...
clicks 9 View   Vote 0 Vote   7:53pm 15 Jul 2018
Blogger: pratibha kushwaha at ठिकाना ...
बारह हजार करोड़ की रेमंड ग्रुप के मालिक 78 वर्षीय विजयपत सिंघानिया एक-एक पैसों के लिए मोहताज हो गए। उनके बेटे गौतम ने उन्हें न केवल घर से बेदखल कर दिया बल्कि गाड़ी व उनका ड्राइवर तक छीन लिया। मजबूर होकर विजयपत को बाम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर करके मुंबई स्थित एक घर का पज...
clicks 13 View   Vote 0 Vote   5:57pm 15 Jul 2018
Blogger: वन्दना गुप्ता at एक प्रयास...
काश वापसी की कोई राह होती है न ...दृढ निश्चय फिर छोड़ा जा सकता है सारा संसार और मुड़ा जा सकता है वापस उसी मोड़ से लेकिन क्या संभव है सारा संसार छोड़ने पर भी उम्र का वापस मुड़ना ?युवावस्था का फिर बचपन में लौटना वृद्धावस्था का फिर युवा होना है न ....मन को साध लो फिर जो चाहे बना लो कैसे ...
clicks 9 View   Vote 0 Vote   4:43pm 15 Jul 2018
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
लोकतांत्रिक व्यवस्था की पारदर्शिता को लेकर हाल में दो खबरों से दो तरह के निष्कर्ष निकलते हैं। पिछले हफ्ते तरह केन्द्र ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि देश भर में अदालती कार्यवाही का सीधा प्रसारण किया जा सकता है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलक...
clicks 16 View   Vote 0 Vote   7:28am 15 Jul 2018
Blogger: sunny kumar at Life iz Amazing...
हे कृष्णा, मेरी कलम में तुम थोड़े, बंसी के लय घोलो न.. मुझे पढ़कर सबमें प्रेम बढ़े, ऐसे किस्से मुझसे गढ़वाओं न.. सुनने को सब मुझे भी ललचे, कुछ ऐसी मायाजाल बिछाओ न.. मेरी कलम में तुम थोड़े, बंसी के लय घोलो न.. प्रेम-धर्म की स्थापना को, हे वसुदेव तुम जब उतरते हो, तो कभी मेरे शब्दों में भी, ...
clicks 8 View   Vote 0 Vote   9:01pm 14 Jul 2018
Blogger: Mahesh Barmate at Kuchh Dil Se......
भाई, मैंने अब तक की अपनी ज़िन्दगी में तरह - तरह के शौक रखने वाले देखे हैं, किसी को क्रिकेट देखने का शौक, तो किसी को क्रिकेट खेलने का शौक, किसी को कुछ खाने का शौक, तो किसी को कुछ पीने का शौक, लाखों तरह के शौक पालते हैं लोग। अब हिन्दी के मशहूर व्यंग्यकार "श्री विवेक रंजन श्रीवास्...
clicks 15 View   Vote 0 Vote   8:35pm 14 Jul 2018
Blogger: sandhya arya at हमसफ़र शब्द...
दहलीजसेबाहरउसने कभीअपनापांवनरखाथा यहीवजहथीकिखिडकीऔररौशनदानवालीकवितायें उसकेरुहकोछूलेतीथी, लकीरोंमेकैदगौरैया खुलेआसमानकासपना कभीदेखनहीपातीथी उसेतोरौशनदानसे सुबहकासूरजदेखनेभरकीआदतथी, कविताकेलिये ज्यादाशब्दोंकीजरुरतनहीहोती  औ...
clicks 14 View   Vote 0 Vote   3:01pm 14 Jul 2018
Blogger: Amit Mishra at Amit Mishra...
*****स्वयंवर*****तोड़ धनुष जब शिव जी कामन  ही  मन  राम  हर्षाये थेभये  प्रसन्न  सब देव स्वर्ग मेंनभ  से  ही  पुष्प बरसाये थेप्रत...
clicks 13 View   Vote 0 Vote   9:02pm 13 Jul 2018
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
      एक संगीत कार्यक्रम के दौरान, श्रोताओं द्वारा किए गए एक प्रश्न के प्रत्युत्तर में, गायक और गीत-लेखक डेविड विलकॉक्स ने बताया कि वह गीत कैसे लिखता और संगीत-बद्ध करते हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्हें तीन बातों की आवश्यकता होती है: एक शान्त कमरा, एक कोरा कागज़,...
clicks 10 View   Vote 0 Vote   8:45pm 13 Jul 2018
Blogger: Anshu Mali Rastogi at चिकोटी...
मैंकई दिनों से इस कोशिश में लगा हूं कि अपना लक पहनकर चल सकूं। लेकिन लक है कि मेरे खांचे में ही नहीं आ पा रहा। जबकि लक की जरूरत के मुताबिक मैंने अपना आकार-प्रकार भी घटा लिया है। बात फिर भी बन नहीं पा रही।बार-बार दिल में यही ख्याल आता है कि मेरा लक दूसरों के लक से भिन्न क्यों ...
clicks 14 View   Vote 0 Vote   2:16pm 13 Jul 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]

 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013