Author माधवी रंजना at DAANA PAANI...
रेलगाड़ी में जब दिन में चल रही हो तो आने वाले स्टेशनों को देखना अच्छा लगता है खासकर सफर जब नए मार्ग पर हो। पर रात में आप रास्ते का आनंद नहीं ले पाते। पर बेंगलुरु से विजयपुरा जाते हुए रात में भी मुझे ज्यादातर नींद नहीं आई। गोलगुंबज एक्सप्रेस बेंगलुरु सिटी के बाद यशवंतपु...
clicks 2 View   Vote 0 Vote   1:00pm 26 Apr 2017
Author वीर विनोद छाबड़ा at Yaadein...
-वीर विनोद छाबड़ाघर से निकलने से पहले मैं सब चेक कर लेता हूं कि जेब में सब व्यवस्थित है। चश्मा, रुमाल, मोबाइल, पर्स और कंघी। एटीएम कार्ड नहीं रखता। बहुत कम इस्तेमाल करता हूं। डर लगता है कि कोई हैकर पीछे न लगा हो। बहरहाल, कभी-कभी ध्यान हटने पर जाता है तो कुछ न कुछ भूल जाता हूं...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   9:40am 26 Apr 2017
Author S.M.MAasum at हमारा जौनपुर ...
हर धर्म की तरह इस्लाम में भी इसको मानने वाले तो प्रकार के हुआ करते हैं जिनमे एक वो होते हैं जो अपने धर्म के उसूलों पे चलते हुए अपने धर्म की मदद से समाज में इंसानियत का पैगाम दिया करते हैं और दुसरे वो होते हैं जो सत्ता ,धन या शोहरत की लालच में पथभ्रष्ट हो जाते हैं और ज़ुल्म ,न...
clicks 21 View   Vote 0 Vote   5:37am 26 Apr 2017
Author Asha News at Jhabua News, Hindi News, Online New...
झाबुआ: श्रम आयुक्त श्रम विभाग शोभित जैन ने आज झाबुआ जिले के ग्राम उमरी,भूरीमाटी एवं वागलावाट भूरिया में आयोजित ग्राम संसद में सहभागिता की ग्राम पंचायत उमरी के ग्रामीणो ने आयुक्त श्री जैन के समक्ष शराब नही पीने की शपथ ली श्रम आयुक्त शोभित जैन ने ग्रामीणो से चर्चा के दौ...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   8:15pm 25 Apr 2017
Author Praveen Kumar Gupta at HAMARA VAISHYA SAMAJ - हमार...
उपगुप्त प्राचीन समय में मथुरा नगरीका एक विख्यात बौद्धधर्माचार्य था। जो की वैश्य वनिक कुल में पैदा हुए थे. सम्राट अशोकको बौद्ध धर्मका प्रचार करने और स्तूपआदि को निर्मित कराने की प्रेरणा धर्माचार्य उपगुप्त ने ही दी। जब उपगुप्त युवा थे, तब इन पर एक गणिका वासवदत्तामुग्...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   6:27pm 25 Apr 2017
Author डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
ज़ज़्बात के बिन, ग़ज़ल हो गयी क्याबिना दिल के पिघले, ग़ज़ल हो गयी क्यानहीं कोई मक़सद, नहीं सिलसिला हैबिना बात के ही, ग़ज़ल हो गयी क्यानहीं कोई कासिद, नहीं कोई चिठियाबिना कुछ लिखे ही, ग़ज़ल हो गयी क्याजरूरत के पाबन्द हैं, लोग अब तोबिना दिल मिले ही, ग़ज़ल हो गयी क्यानज़र वो ...
clicks 6 View   Vote 0 Vote   6:17pm 25 Apr 2017
Author Gagan Sharma at कुछ अलग सा...
जब पतंजलि की तरफ से इजाजत नहीं मिली है तो फिर कैसे ये लोग उसके नाम और लोगो का इस्तेमाल कर रहे है। ऐसा तो नहीं कि उन्होंने सोच रखा हो कि इजाजत मिलने में तो समय लगेगा ही तब तक उनके नाम का इस्तेमाल करते रहो, पब्लिक को क्या पता कि अधिकृत हैं की नहीं, वह तो नाम देखती है, यदि इजाजत ...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   6:12pm 25 Apr 2017
Author Sharif Khan at Haqnama...
इस्लामी शरीयत में हर बात क़ुरआन और हदीस के ज़रीये स्पष्ट रूप से समझा दी गई है और यह चूँकि अल्लाह की तरफ़ से भेजी गई है लिहाज़ा इसकी बुनियादी बातों में किसी भी प्रकार के संशोधन की गुंजायश नहीं है। अगर आंशिक रूप से कोई समस्या पैदा होती है तो उसका समाधान उलेमा के ज़रीये क़ुरआन व ह...
clicks 10 View   Vote 0 Vote   11:46am 25 Apr 2017
Author Deep Singh Yadav at AmulyaKhabar.com ► Best Blog For ...
Earth Quotes in Hindi...पृथ्वी पर अनमोल विचार , स्लोगन्स  व कविताPosted on 25.04.2017 By: Deep Singh Yadav*आने वाली पीढ़ी है प्यारी, तो पृथ्वी को बचाना है हमारी जिम्मेदारी।  *अर्थ का कुछ करो, नहीं तो अनर्थ हो जायेंगा।*आने वाली पीढ़ी है प्यारीं, तो पृथ्वी को बचाना है हमारी जिम्मेदारी।*धरती बचाओ, जीवन बचाओ, जीवन ...
clicks 4 View   Vote 0 Vote   10:39am 25 Apr 2017
Author Asha News at Religious News Today,Religious News...
किसी भी काम को मंगलमय ढ़ग से पूरा करने के लिए यह बहुत अवश्यक है की उसे शुभ समय पर किया जाए। ज्योतिषशास्त्री कहते हैं की सभी नक्षत्रों का अपना-अपना प्रभाव होता है। कुछ शुभ फल देते हैं तो कुछ अशुभ लेकिन कुछ ऐसे काम होते हैं जो कुछ नक्षत्रों में नहीं करने चाहिए। उज्जैन के ...
clicks 8 View   Vote 0 Vote   10:03am 25 Apr 2017
Author समीर लाल at उड़न तश्तरी .......
प्रश्न वही हो तब भी जबाब देने वाले के हिसाब से जबाब अलग अलग मिल सकते हैं..सबसे ज्यादा क्या तोड़ा जाता है..आशीक मिज़ाज होगा तो कहेगा दिल और पति होगा तो कहेगा पत्नी के द्वारा गुस्से में कांच का गिलास..आम जन होगा तो कहेगा नेताओं का वादा.फिर आप पूछेंगे कि सबसे ज्यादा मरोड़ा क्या ज...
clicks 17 View   Vote 0 Vote   6:16am 25 Apr 2017
Author डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
मित्रों  मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  -- कार्टून  "उजड़ गया सिंगार"  कार्टूनिस्ट-मयंक खटीमा  (CARTOONIST-MAYANK) -- जिंदगी में फड़फड़ाता अखबार  जिंदगी की राहें पर  Mukesh Kumar Sinha  -- लाल बत्ती और वीवीआईपी पर उसके प्...
clicks 16 View   Vote 0 Vote   4:00am 25 Apr 2017
Author डॉ. जेन्नी शबनम at लम्हों का सफ़...
सुख-दुःख जुटाया है...*******तिनका-तिनका जोड़कर  सुख-दुःख जुटाया है  सुख कभी-कभी झाँककर  अपने होने का एहसास कराता है  दुःख सोचता है  कभी तो मैं भूलूँ उसे  ज़रा देर आराम करे  मेरे मायके की  टिन वाली पेटी में  तिनका-तिनका जोड़कर  सुख-दुख जुटाया है।  - जेन्नी शबनम...
clicks 15 View   Vote 0 Vote   11:25pm 24 Apr 2017
Author shalini kaushik at ! कौशल !...
''आदमी '' प्रकृति की सर्वोत्कृष्ट कृति है .आदमी को इंसान भी कहते हैं , मानव भी कहते हैं ,इसी कारण आदमी में इंसानियत , मानवता जैसे भाव प्रचुर मात्र में भरे हैं ,ऐसा कहा जाता है किन्तु आदमी का एक दूसरा पहलु भी है और वह है इसका अन्याय अत्याचार जैसी बुराइयों से गहरा नाता होना .कहत...
clicks 14 View   Vote 0 Vote   10:23pm 24 Apr 2017
Author kiran mishra at किरण की दुनिय...
हर काबिल हर कातिल तक अपनी महक अपना हरापन फैलाते वसंत स्वागत है तुम्हारा....मधुमास लिखी धरती पर देख रही हूँ एक कवि बो रहा है सपनों के बीज । किसके सपने है महाकवि मैं पूछती हूं और ग्रीक देवता नहीं अपोलो नहीं.. बोल पड़ा चतुरी चमार । ये कैसा मेल महाप्राण ? कोई मेल नहीं कोई समानता न...
clicks 11 View   Vote 0 Vote   10:30am 24 Apr 2017
Author दिगम्बर नासवा at स्वप्न मेरे ......
क्या सच में जीवन का अन्त नहीं ... क्या जीवन निरंतर है ... आत्मा के दृष्टिकोण से देखो तो शायद हाँ ... पर शरीर के माध्यम से देखो तो ... पर क्या दोनों का अस्तित्व है एक दुसरे के बिना ... छोड़ो गुणी जनों के समझ की बाते हैं अपने को क्या ...   अचानक नहीं आताज़िंदगी की क़िताब का आखरी पन्ना हां...
clicks 11 View   Vote 0 Vote   9:29am 24 Apr 2017
Author राकेश खंडेलवाल at गीत कलश...
ज़िन्दगी के बिछे इस बियावान मेंफूल इक आस का खिल सकेगा नहींवक्त की रेत पर जो इबारत लिखीनाम उसमें मेरा मिल सकेगा नहींउम्र की राह को आके झुलसा गईकंपकंपाती किरण आस्था दीप कीयाद की पोटली साथ में थी रहीएक मोती लुटा रह गये सीप सीजैसे पतझर हुआ  रात दिन का सफ़रफूल अरमान के सारे ...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   6:00am 24 Apr 2017
Author साहित्य शिल्पी at साहित्य शिल्...
रचनाकार परिचय:- श्वेता सिंह चौहान सम्प्रति-अध्यापन और लेखन प्रतिलिपी और हिंदीकुंज में अबतक 25 से ज्यादा कहानियाँ और कविताएँ प्रकाशित हो चुकी हैं। ई मेल- shwetasinghchauhan379@gmail.com नही छुपाना चाहती मैं निशान अपनी उम्र का मेरे बालों की सफेदी से नहीं है मुझे कोई परेशानी क्या फकॅ पड़त...
clicks 6 View   Vote 0 Vote   12:00am 24 Apr 2017
Author Rector Kathuria at पंजाब स्क्री...
BMS से सबंधित म्युनिस्पल वर्कर्ज़ यूनियन का अधिवेशन लुधियाना: 23 अप्रैल 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: कर्मचारियों के  नीतियां कांग्रेस सरकार की थीं वही नीतियां आज भी जारी हैं। इस पर हमारी बातचीत और संघर्ष लगातार जारी है इसलिए भविष्य में क्या होगा इसकी आशा भी है  तारीख ...
clicks 7 View   Vote 0 Vote   8:00pm 23 Apr 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]

 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013