अर्पित ‘सुमन’

शबनमी ख्वाब

देर रात चाँद सोता रहा पलकों तलेचाँदनी तेरे ख्वाब को शबनमी करती रही !!सु-मन ...
clicks 9  Vote 0 Vote  11:10am 12 Jun 2018

तेरा अश्क़ मेरा दामन

गिरा तेरी आँख से इक क़तरा अश्क कामेरा दामन यूँ सेहरा से सागर बन गया ।।सु-मन ...
clicks 7  Vote 0 Vote  2:21pm 2 Jun 2018

तुम और मैं -९

मैंने दीया जला कर कर दी है रोशनी ...तुम प्रदीप्त बन हर लो, मेरा सारा अविश्वास |मेरे आराध्य !आस के दीये में बची रहे नमी सुबह तलक !!सु-मन ...
clicks 72  Vote 0 Vote  4:11pm 20 Nov 2017

हुनर

समेट लेना खुद को , अपने दायरे में सीखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!सु-मन ...
clicks 44  Vote 0 Vote  3:36pm 9 Oct 2017

रूबरू

तुझसे रूबरू न हो पाऊँ , न सही तेरी धड़कन अब मुझसे होकर गुजरती है !!सु-मन ...
clicks 45  Vote 0 Vote  3:11pm 30 Aug 2017

शापित मंजिलें

... स्थितियाँ बदल देती हैं राह जिंदगी की ...... मंजिलेंअक्सर अकेली रह शापित हो जाया करती हैं !!सु-मन ...
clicks 82  Vote 0 Vote  3:19pm 18 Aug 2017

खाली हसरतें

खाली हसरतों की होती है मियाद बस इतनी ....भीतर के भरेपन में होती है खाली जाम-ए-पनाह जितनी.. !!सु-मन ...
clicks 80  Vote 0 Vote  2:13pm 11 Aug 2017

बस यूँ ही ~ 2

मैं जिंदा तो हूँ , जिंदगी नहीं है मुझमें फक़त साँस चल रही है ज़िस्म फ़ना होने तक !!सु-मन ...
clicks 77  Vote 0 Vote  3:17pm 17 Jun 2017

बस यूँ ही ~ 1

झील की चादर पर पड़ गई हैं सिलवटें आज फिर, मस्त पवन उससे मिलने आया है !!सु-मन ...
clicks 137  Vote 0 Vote  4:28pm 3 Jun 2017

तुम और मैं -८

तुम स्याह लफ्ज़ों में लिपटे ख़यालात हो और मैं उन ख़यालों की ताबीर |एक नज़्म एहसास की जिन्दा है तेरे मेरे बीच !!सु-मन ...
clicks 97  Vote 0 Vote  2:58pm 6 Mar 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013