चिकोटी

जल्द ही मैं भी अपना लक पहनकर चल सकूंगा

मैंकई दिनों से इस कोशिश में लगा हूं कि अपना लक पहनकर चल सकूं। लेकिन लक है कि मेरे खांचे में ही नहीं आ पा रहा। जबकि लक की जरूरत के मुताबिक मैंने अपना आकार-प्...
clicks 14  Vote 0 Vote  2:16pm 13 Jul 2018

मेरे मरने के बाद...

जीते-जीइस बात का पता लगाना बेहद मुश्किल है कि ये दुनिया, समाज और नाते-रिश्तेदार आपके बारे में क्या और कैसा सोचते हैं। ये सब जानने के लिए आपको मरना पड़ेगा। क...
clicks 7  Vote 0 Vote  2:41pm 9 Jul 2018

देख लेना, गिरकर फिर उठेगा रुपया

गिरना एक स्वभाविक प्रक्रिया है। कुछ मैदान-ए-जंग में गिरते हैं तो कुछ मैदान-ए-बाजार में। गिरकर जो उठ या संभल नहीं पाते, दुनिया उन्हें बहुत जल्द भूला देती ह...
clicks 29  Vote 0 Vote  9:54am 4 Jul 2018

बुरा मानने वाले

ऐसेलोग मुझे बेहद पसंद हैं, जो बुरा मानते हैं। या कहूं, धरती पर जन्म ही उन्होंने बुरा मानने के लिए लिया होता है। वे इसी खुशफहमी में डूबे रहते हैं कि यह दुनिय...
clicks 15  Vote 0 Vote  9:45am 3 Jul 2018

पाप का घड़ा

इनदिनों मेरे साथ कुछ भी ठीक नहीं हो रहा। कभी बनता काम बिगड़ जाता है, तो कभी सड़क चलते कोई भी लड़ लेता है। चार रोज हुए, उल्टे पैर की कन्नी उंगली में ऐसी चोट लगी क...
clicks 9  Vote 0 Vote  1:06pm 29 Jun 2018

सपनों का न आना

मुझेसपने नहीं आ रहे। सपनों के न आने से मैं खासा परेशान हूं। पूरा दिन इसी सोच-विचार में निकल जाता है कि आखिर क्या कारण है, जो सपनों ने मुझसे किनारा कर लिया ह...
clicks 11  Vote 0 Vote  1:05pm 28 Jun 2018

ये तो होना ही था...

जिसका'डर'कम 'यकीन'ज्यादा था, वही हुआ। एक और 'राजनीतिक गठबंधन' (बीजेपी-पीडीपी) 'ब्रेकअप'की भेंट चढ़ गया। देश का बच्चा-बच्चा जानता था कि 'गठबंधन'की बुनियाद खोखली...
clicks 15  Vote 0 Vote  9:39am 26 Jun 2018

समाज को सुधारना चाहता हूं!

कई दिनोंसे मैं समाज को सुधारने की सोच रहा हूं! न न आप गलत समझ रहे हैं। मैं समाज को समाज के बीच जाकर नहीं, अपने लेखन के दम पर सुधराना चाहता हूं। समाज के लिए कु...
clicks 25  Vote 0 Vote  11:21am 22 Jun 2018

महाभारत काल में 'इंटरनेट'का होना

अगरवो बताते नहीं तो हमें भी कहां पता नहीं चल पाता कि महाभारत काल में भी 'इंटरनेट का अस्तित्व'था! मैं समझ नहीं पा रहा महाभारत के रचयिता और सीरियल बनाने वालो...
clicks 22  Vote 0 Vote  9:31am 11 Jun 2018

व्यंग्य में 'पाथ ब्रेकिंग'

जीवनमें सफलता का रास्ता अच्छा पढ़ने या अच्छा करियर बनाने से ही नहीं निकलता, 'पाथ ब्रेकिंग'से भी निकलता है। 'पाथ ब्रेकिंग'की अवधारणा को काफी हद तक स्वरा भास...
clicks 23  Vote 0 Vote  12:36pm 9 Jun 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013