प्यार

उम्मीद

मत करो अब मुझसे वो पहली सी उम्मीद की नहीं दे पाऊँगी अब कुछ भी तुम्हें ...जानते हो जब दर्द हदें  तोड़ देता है तो बदले में बहुत कुछ ले भी लेता है ...
clicks 1  Vote 0 Vote  11:30am 17 Jul 2018

पता

स्त्री हैं हम हमारा कोई स्थायी पता नहीं होताजहाँ हम पैदा होतीं हैं वहां ताउम्र रहतीं नहीं जहाँ उम्र गुजारती हैं वहां कुछ इस तरह रहती हैं जैसे पांव के नीच...
clicks 0  Vote 0 Vote  12:07pm 16 Jul 2018

पुल

औरतें अकसरपुल होती हैंघर के तमामसदस्यों के बीच ...बुजुर्ग बाप औरअधेड़ उम्र के बेटे के बीचएक तरफ़ बहुएक तरफ बीवीबातों को बिगड़ने सेबचाने की कोशिश मेंकभी एक त...
clicks 12  Vote 0 Vote  1:10pm 14 Jul 2018

मेरी जमा पूंजी

पापा आपके लिएबचपन की यादें, कितनी प्यारी होती हैं न ..और जब  जनवरी का महीना आता है तो शिद्दत से बचपन और पापा याद आने लगते हैं ।जबसे होश संभाला तब से शादी के ...
clicks 0  Vote 0 Vote  10:53am 13 Jul 2018

प्यार का एक और रूप

होता है ऐसा भीके कोई प्यारजता जता केहार जाता हैपर हम उससेप्यार करते हुए भीउसकीकद्र नहीं कर पातेऔर अपने प्यार कीगहराईसमझ नहीं पातेशायद मन केकोने में ये ...
clicks 0  Vote 0 Vote  12:04pm 12 Jul 2018

विरह वेदना

आज मैं अपनी एक पुरानी रचना साझा कर रही हूँ .....मैं खिड़की के कोने खड़े हो कर तेरा इंतज़ार करतीतेरे एक स्पर्श के लिए महीनों तड़पती तुझे याद कर के अपनी साड़ी ...
clicks 1  Vote 0 Vote  2:01pm 11 Jul 2018

अपनी अदालत

मैं रोज़ ख़ुद से अनेकों युद्ध लड़ती हूँखुद को फिर अदालत में खड़ा कर सवाल करती हूंसवालों का सही जवाब न मिलने पर सजा सुना देती हूं और ये क्रम अनवरत चलता रहता ह...
clicks 18  Vote 0 Vote  11:06am 10 Jul 2018

दरदी बंधु

एक शख्स है ऐसा जो सब रिश्ते नातों से परे सबसे ऊपर है मेरी खुशी में अपनी खुशी मिलाकर उसे दोगुना करने वाला दुख में उसे बांट व्यथा को कम करने वाला मेरी आ...
clicks 1  Vote 0 Vote  11:37am 9 Jul 2018

बूढ़ा पीपल

बहुत खुश थावो गांव केचौराहे पर खड़ाबूढ़ा पीपल,बरसों से खड़ा था अटलसबके दुःख सुख का साथीलाखों मन्नत केधागे खुद पर ओढ़े हुए ,कभी पति की लम्बी उम्रकभी धन की लालस...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:59pm 8 Jul 2018

गिरगिट

बचपन में देखा था बड़े गौर से गिरगिट को रंग बदलते हुए अचरज तो हुआ था पर बहुत खुश भी हुई थी ऐसा कुछ देखते हुए अब बड़े गौर से देखती हूँ मनुष्यों को रंग बदलते ह...
clicks 0  Vote 0 Vote  12:12pm 7 Jul 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013