My Shayari

कमी

बस कमी सी तेरी खलती है।पर शामें अब भी ढलती हैं।तुम होते तो शायद ओर अच्...
clicks 15  Vote 0 Vote  2:19pm 23 Oct 2018

Happy dushehra

अपने जीवन के इस  विस्तृत मैदान में।अवगुणों के आलंवन से खड़े हो चुके श...
clicks 14  Vote 0 Vote  10:37am 19 Oct 2018

बिना स्टैंड की साईकिल

चलने से टिकती हैऔर रुकने से गिर जाती है।यह जिंदगी बिना स्टैंड की साई&#...
clicks 12  Vote 0 Vote  8:57am 15 Oct 2018

Thokr

मैं जब भी तन्हा होता हूँ।तेरे सुंदर सपने बोता हूँ।कभी उड़ता हूँ उन्मुक्त सा होकरकभी देख हकीकत रोता हूँ।कभी लगती है हर राह आसानकभी ठोकर पे ठोकर खाता हूँ।......
clicks 19  Vote 0 Vote  10:17pm 8 Oct 2018

उम्मीद

मेरे मन को हल्का करती हैजब कुदरत रंग बदलती है।तुम भी तो कुदरत का हिस्&...
clicks 40  Vote 0 Vote  5:47am 5 Oct 2018

हालत

कुछ दूर चलते हैंफिर कदम रुक जाते हैंमेरी मजबूरियों में सबख्वाब बिक ...
clicks 33  Vote 0 Vote  9:19am 26 Aug 2018

आरक्षण

हम बी. पी. एल. जिसे कहते हैंवो आर्थिक आधार पर आरक्षण है।पर अफसोस की बात यह है किइसमें भी बहुत भ्रष्टाचार के लक्षण हैं।         ....... मिलाप सिंह भरमौरी...
clicks 47  Vote 0 Vote  9:17am 26 Aug 2018

लम्हा लम्हा

लम्हा लम्हा है मुश्किलकिस किस से लड़ता है ये दिलइक ओर मोहब्बत के धोखे&#...
clicks 37  Vote 0 Vote  3:23pm 12 Aug 2018

नजरें

बच के निकलता हूँतेरी गली सेकि फिर तुमसे सामना न हो जाए।बड़ी मुश्किल सेसमेटे हैं दिल के टुकड़ेकि फिर वही मामला न हो जाए।बहुत डरता हूँ तेरीझुकी सी पलकों ...
clicks 33  Vote 0 Vote  11:47am 10 Aug 2018

याद

नदी किनारे शाम कोजब दिन ढ़लता है।सूरज धीरे- धीरेपानी के बीच उतरता है।ताजा हो जाती हैं फिरभीगी सी यादें।एक तूफान सा जैसेआँखों के बीच उमड़ता है।........ मिलाप सि...
clicks 30  Vote 0 Vote  1:29pm 9 Aug 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013