पल्लवी

"बैठकर के धूप में मस्ताइए" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

कव्वालीआ गई हैं सर्दियाँ सुस्ताइए।बैठकर के धूप में मस्ताइए।।पड़ गई हैं छुट्टियाँ स्कूल की.बर्फबारी देखने को जाइए।बैठकर के धूप में मस्ताइए।।रोज दादा ...
clicks 874  Vote 0 Vote  6:11pm 18 Dec 2012

*सभी मित्रों को**नवरात्रि की**हार्दिक शुभकामनाएँ!*

सभी मित्रों कोनवरात्रि कीहार्दिक शुभकामनाएँ!...
clicks 965  Vote 0 Vote  7:30pm 14 Oct 2012

"टीचर जी! मत पकड़ो कान" (काव्यानुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

काव्यानुवाद (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")टीचर जी!मत पकड़ो कान।सरदी से हो रहा जुकाम।।लिखने की नही मर्जी है।सेवा में यह अर्जी है।।ठण्डक से ठिठुरे हैं हा...
clicks 1126  Vote 0 Vote  3:57pm 16 Jan 2012

"वफा करके दिखा देंगे" (रजनी माहर)

तू नहीं...तो कोई और भी नही!तेरे बिन...जीकर दिखा देंगे!काँटों पर...चलकर दिखा देंगे!आग में... जलकर दिखा देंगे!जा बेवफा...बेवफाई पे भी तेरी...वफा करके दिखा देंगे!...
clicks 801  Vote 0 Vote  10:39pm 28 Sep 2011

"ऐ ज़िन्दगी" (रजनी माहर)

ऐ ज़िन्दगी आजा अब मैदान में...देखें....किसमें कितना है दम?जब तू नहीं कम,तो हम भी नहीं कम!तेरे पास तो-देने के लिए हैं ग़म,हमारे जिगर में-उसे सहने का है दम!माना का...
clicks 730  Vote 0 Vote  10:32pm 28 Sep 2011

सभी मित्रों को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ..

सभी मित्रों को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.....
clicks 767  Vote 0 Vote  10:04pm 28 Sep 2011

"आँधी और आग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ' मयंक')

खटीमा (उत्तराखण्ड)दिनांक-17.04.2011समय- रात्रि 8.453 घण्टे तक भयंकर आँधी चलती रहीइतने लम्बे समय तक आँधी कभी नहीं आयी। गेहूँ के खेत जलकर भस्मीभूत हो गये।  दो मंजिल...
clicks 697  Vote 0 Vote  4:11pm 18 Apr 2011

"समाच्रार पत्रों में खटीमा ब्लॉगर मीट"

खटीमा में 9 जनवरी को सम्पन्न हुएब्लॉगर्स सम्मेलन की गूँजसाप्ताहिक समाचार पत्र में भी सुनाई दी!दैनिक जागरणअमर उजाला दैनिक...
clicks 785  Vote 0 Vote  10:08am 13 Jan 2011

ब्लॉगर मीट और दो पुस्तकों का विमोचन

लोकार्पण समारोह एवं ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न>> रविवार, ९ जनवरी २०११खटीमा। साहित्य शारदा मंच के तत्वावधान में डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ की सद्यःप्रक...
clicks 815  Vote 0 Vote  6:40am 10 Jan 2011
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019