कविता मंच

शहर

शहरशहर ..... ही शहरहै,फैला हुआ,जहाँ तलक जाती नजर है शहर ..... ही शहरहै|फैली हुई कंक्रीट और का बड़ा अम्बार,वक्त की कमी से बिखरते रिश्ते,बढ़ती हुयी दूरी का कहर है,...
clicks 1  Vote 0 Vote  11:40am 12 May 2018

जख्म

                      वो जो अक्सर फजर से उगा करते हैसुना है बहुत दिल से धुआं करते है।जलता है इश्क या खुद ही जल जाते हैकलमे में खूब चेहरे पढा करते है...
clicks 1  Vote 0 Vote  1:26pm 11 May 2018

गीत -दर्द दिल में छिपा मुसकराते रहे

राजेश त्रिपाठी          वक्त कुछ इस कदर हम बिताते रहे ।दर्द  दिल  में  छिपा मुसकराते रहे ।।     जिसपे भरोसा किया उसने हमको छला।    ...
clicks 3  Vote 0 Vote  8:11pm 1 May 2018

पाँच लिंकों का आनन्द: 911... मेले- लोहड़ी-खिचड़ी की शुभकामनायें

पाँच लिंकों का आनन्द: 911... मेले- लोहड़ी-खिचड़ी की शुभकामनायें...
clicks 10  Vote 0 Vote  11:02am 17 Mar 2018

हां देखा हैं,किसान को मरते हुए....शुभम सिसौदिया

मंद मंद आंसू,आंखो में प्यास,सरकारी चिट्टीसूखा बदन,माथे से लगाए अपने खेत की मिट्टीदिल में उम्मीद,सीने में दर्द,भूखा और प्यासाकल दिखा इक किसान मुझे ओढ़े न...
clicks 13  Vote 0 Vote  3:17pm 16 Mar 2018

कविता मंच का बहुत बहुत आभार

कविता मंच का बहुत बहुत आभार आपने मुझे अपने ब्लॉग पक आमंत्रित किया ।।दो पंक्तियो मे मेरा परिचयशिव शंकर का डमरू बाजे ताण्डव करे भयंकर ।उन शिव की मै पूजा कर...
clicks 10  Vote 0 Vote  4:06pm 15 Mar 2018

मूर्ति

सोचता हूँ गढ़ दूँ मैं भी अपनी मिट्टी की मूर्ति, ताकि होती रहे मेरे अहंकारी-सुख की क्षतिपूर्ति। मिट्टी-पानी का अनुपात अभी तय नहीं हो पाया ह...
clicks 13  Vote 0 Vote  7:30pm 13 Mar 2018

गीत-

दर्द  दिल  में  छिपा मुसकराते रहेराजेश त्रिपाठीवक्त कुछ इस कदर हम बिताते रहे ।दर्द  दिल  में  छिपा मुसकराते रहे ।।     जिसपे भरोसा किया उस...
clicks 10  Vote 0 Vote  11:17am 7 Mar 2018

होली की कथा

हमारी पौराणिक कथाऐं कहती हैं होली की कथा निष्ठुर ,एक थे भक्त प्रह्लाद पिता  जिनका हिरण्यकशिपु  असुर। थी उनकी बुआ होलिका थी ममतामयी माता कया...
clicks 15  Vote 0 Vote  11:12am 2 Mar 2018

मैं बदन बेचती हूँ--

Monday, November 1, 2010मैं बदन बेचती हूँ--मैं बदन बेचती हूँ--उस औरत के तन काकतरा-कतरा फुट बहा है तभी तो चीख-चीख कहती हाँ मै बदन बेचती हूँ अपनी तपिश बुझाने को नही पे...
clicks 55  Vote 0 Vote  10:48pm 5 Feb 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013