बाल सजग

कविता : "काश मै हवा बन जाऊ "

 "  काश मै हवा बन जाऊ " काश मै हवा बन जाऊ ,हर गली -मोहल्ले  सेगुजर  जाऊ | बाग़ - बगीचे में सैर कर आऊँ  ,जब चाहे मन करता | तब मै  उड़ता फिरुँ  ,पेड़ -पौधे क...
clicks 17  Vote 0 Vote  2:14pm 11 Apr 2021

कविता :"वो सुनहरी धुप "

"सुबह की  वह सुनहरी धुप "सुबह की वह  सुनहरी धुप ,जो बिना बोले चमक आती है |सही समय नहीं होने पर ,आपने आप गयाब हो जाती है |न लगती न चुभती है ,मन के भीतर तक है | स...
clicks 36  Vote 0 Vote  2:17pm 9 Apr 2021

कविता : "मै अब भी याद करता हूँ उस पल को "

 "मै अब भी याद करता हूँ उस पल को "मै अब भी याद करता हूँ उस पल को , जब मै घुठनो के बल चलता था | मुझे याद है वह दिन ,जब खटिए से गिर जाता था | मुझे याद है वह दिन ,ज...
clicks 28  Vote 0 Vote  11:32am 4 Apr 2021

कविता : "रंग की भरमार में "

 कविता : "रंग की भरमार में "रंगो  की भरमार में ,होली  की त्योहर  में | हर व्यक्ति को रंग है लगाना ,बचने वालो को न  छोड़ना | अबीर उड़े गुलाल उड़े और जाकर स...
clicks 135  Vote 0 Vote  11:54am 31 Mar 2021

कविता:- आसमान में तारे

"आसमान में तारे"आसमान में तारे। दिखते हैं बहुत सारे।।कुछ टिमटिमाते हुए। कुछ चमकते हुए।।उन अंधेरी रातों में। जुगनू की तरह।।आसमान में तारे।दिखते हैं ब...
clicks 37  Vote 0 Vote  12:04pm 11 Mar 2021

कविता:- होली आयी होली आयी

"होली आयी होली आयी"होली आयी होली आयी।अपने संग रंग भर लायी।।  लाल, गुलाबी, हरा और पीला। लगाएंगे रंग भर कर पतीला।। गलियों में दौड़ा दौड़कर। नालियों में पटक प...
clicks 38  Vote 0 Vote  3:39pm 7 Mar 2021

कविता:- छोटी सी चिड़िया

"छोटी सी चिड़िया"छोटी सी चिड़िया।बहुत कुछ कह जाती है।।अपनी आवाजों से वो। सबको मोह लेती है।।छोटी सी चिड़िया। न जाने क्या कह जाती है।।यहाँ-वहाँ घूमती है। डाल-...
clicks 29  Vote 0 Vote  2:58pm 6 Mar 2021

When I closed my eyes

"poem"   When I closed my eyes.I remember my all mistakeswhich I have  done in pastthen I open my eyes. I think this was  my luck.Which gave me another a chanceand don't I want to go there change out. Poet Name --Niranjan Kumar, Class-4th, Apna Ghar, Kanpur...
clicks 52  Vote 0 Vote  12:23pm 5 Mar 2021

कविता:-सुहाने इस मौसम की घटाओ में

"सुहाने इस मौसम की घटाओ में" सुहाने इस मौसम की घटाओं में।  कुछ तो ऐसी बात है इस मौसम में।। जो हर किसी को भा जाता है।कभी काली घटा जो घिर आ जाता है।।किसानो ...
clicks 60  Vote 0 Vote  4:21pm 3 Mar 2021

कविता:-चिड़िया आया चिड़िया आया

"चिड़िया आया चिड़िया आया" चिड़िया आया चिड़िया आया।  चिड़िया ने दो दाना लाया।।साथ में अपने बच्चों को खिलाया। चिड़िया गया चिड़िया गया।।आसमान में चिड़िया गया। ...
clicks 48  Vote 0 Vote  8:58pm 28 Feb 2021
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019