मेरी जुबानी

एक और वनवास

~एक और वनवास~ढूँढ रही थी अपने पिता की छविउस घर के  सबसे बड़े पुरुष मेंएक स्त्री को माँ भी समझ लिया थाप्रेम की गंगा बह रही थी हृदय से मेरेलगा था बाबुल का घर ...
clicks 2  Vote 0 Vote  9:01pm 17 Nov 2018

मेरी प्रेयसी.... 💖हाइकू

मेरी प्रेयसी... 💖 हाइकू1:मन मंदिरप्रेयसी का हमारीप्रेम अमर2:उजला रंगसुन्दर चितवनछेड़े तरंग3:अपनापनगोरी तू जतातीन सकुचाती4:मनभावनलबों पर मुस्कानतू मेरी ज...
clicks 8  Vote 0 Vote  2:55pm 5 Nov 2018

ढल जा ऐ रात....

ढल जा ऐ रात...मुझे सूरज को मनाना हैबहुत दिन हुएन जाने क्यूँ...मुझसे रूठा हुआ है......
clicks 9  Vote 0 Vote  11:44pm 11 Oct 2018

Happiness is....

...
clicks 16  Vote 0 Vote  1:52pm 23 Sep 2018

कान्हा.... ओ कान्हा..

तेरे काँधे पर सिर रखके सुकूं पाती हूँ. कान्हा, तुझमें इतनी कशिश क्यों है????...
clicks 10  Vote 0 Vote  11:04pm 20 Sep 2018

मना है...

न  दौड़ना मना है, न  उड़ना मना हैन गिरना मना है , न चलना मना है! जो बादल घनेरे, करें शक्ति प्रदर्शन तो भयभीत होना, सहमना मना है! पत्थर मिलेंगे, और कंकड़ भी हो...
clicks 9  Vote 0 Vote  10:50pm 19 Sep 2018

प्यारी मैं..( Dear me)..

प्यारी मैं,मेरी प्यारी प्यारी... मैं....अरे.!अरे... !मुझे पता है तुम क्या सोच रही हो?यही न.. कि आज इसे क्या हो गया है??कैसी बहकी - बहकी बातें कर रही है??आज तक तो इसने म...
clicks 30  Vote 0 Vote  8:56pm 1 Sep 2018

कहना तो था पर..

कहना तो था पर कभी कह न पाई ये सोचकर कि पड़ोसी क्या कहेंगे समाज क्या कहेगादुनिया क्या कहेगीमैं कुछ कह न पाई बांध दी किसी ने बेड़ियाँ जो पैरों मेंतो छुड़ाने...
clicks 10  Vote 0 Vote  5:51pm 30 Aug 2018

अन्तरद्वन्द्व

अंतरद्वन्द्वपेशानी मेरी, लंबी लकीरों से सजाते,वक्त से पहले ही, मुझे बूढ़ा बनाते,मेरे भीतर , ईर्ष्या - द्वेष  जगाते,मुझे अक्सर, गलत पथ पर दौड़ाते,रचते  स...
clicks 16  Vote 0 Vote  10:56pm 4 Aug 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013