आपका-अख्तर खान "अकेला"

बात अजीब और कितनी अजीब है

बात अजीब और कितनी अजीब है ,,देशभर में वोटर्स को वोट डालने के लिए जागरूक करने ,सम्पूर्ण देशभर की मतदान प्रक्रिया के इंचार्ज रहे ,,आदरणीय पूर्व चुनाव आयुक्त...
clicks 54  Vote 0 Vote  7:49am 13 Apr 2019

राम जी की कृपा ऐसी हो

    चैत्रे नवम्यां प्राक् पक्षे दिवा पुण्ये पुनर्वसौ ।    उदये गुरुगौरांश्चोः स्वोच्चस्थे ग्रहपञ्चके ॥    मेषं पूषणि सम्प्राप्ते लग्ने क...
clicks 14  Vote 0 Vote  7:47am 13 Apr 2019

लेकिन क्या वह लोग (इतना भी) नहीं जानते

मूसा ने कहा खु़दा ज़रूर फरमाता है कि वह गाय न तो इतनी सधाई हो कि ज़मीन जोते न खेती सीचें भली चंगी एक रंग की कि उसमें कोई धब्बा तक न हो, वह बोले अब (जा के) ठीक-ठ...
clicks 32  Vote 0 Vote  7:27am 13 Apr 2019

(तब वह लोग कहने लगे कि (अच्छा) तुम अपने खु़दा से दुआ करो

(और वह वक़्त भी याद करो) जब तुमने मूसा से कहा कि ऐ मूसा हमसे एक ही खाने पर न रहा जाएगा तो आप हमारे लिए अपने परवरदिगार से दुआ कीजिए कि जो चीज़े ज़मीन से उगती ह...
clicks 15  Vote 0 Vote  5:59am 12 Apr 2019

आज कलम का कागज से "" मै दंगा करने वाला हूँ,""

*सलीमखान (सलमान के पिता) द्वारा पत्रकारोको/मिडियाको करारा थप्पड़..*👇👇👇👇👇👇आज कलम का कागज से ""मै दंगा करने वाला हूँ,"" . मीडिया की सच्चाई को मै ""नंगा करने वाल...
clicks 53  Vote 0 Vote  6:39am 11 Apr 2019

फिर तुम्हें तुम्हारे मरने के बाद हमने जिला उठाया

और फिरऔन के आदमियों को तुम्हारे देखते-देखते डुबो दिया और (वह वक़्त भी याद करो) जब हमने मूसा से चालीस रातों का वायदा किया था और तुम लोगों ने उनके जाने के बाद...
clicks 12  Vote 0 Vote  6:27am 11 Apr 2019

दी जी के पहले

...दी जी के पहले धरती चपटी थी ,,दी ने उसे गोल कियाघरती घुमती नही थी ,,,दी ने उसे घुमना सिखाया समुद्र सुखे थे ,,,दी ने पानी भरासूरज मे रोशनी नही थी मोदी ने रोशनी ला...
clicks 7  Vote 0 Vote  8:31am 6 Apr 2019

यही वह लोग हैं जिन्होंने हिदायत के बदले गुमराही ख़रीद ली

और जब उनसे कहा जाता है कि मुल्क में फसाद न करते फिरो (तो) कहते हैं कि हम तो सिर्फ इसलाह करते हैं (11)ख़बरदार हो जाओ बेशक यही लोग फसादी हैं लेकिन समझते नहीं (12)और ...
clicks 46  Vote 0 Vote  8:29am 6 Apr 2019

बहरूपिया इस बार चौकीदार के वेश में है जागते रहो

मैं चौकीदार हूं (द ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान)सावधान !एक बहरूपियाफिर सेआपके शहर मेंमौजूद है वह कभी कहता हैमैं फ़क़ीर हूँझोला उठाकरचल दूंगाकभी वह रोने-धोने का ऐसा...
clicks 52  Vote 0 Vote  7:12am 5 Apr 2019

आखि़रत का यक़ीन भी रखते हैं

अलीफ़ लाम मीम (1) (ये) वह किताब है। जिस (के किताबे खु़दा होने) में कुछ भी शक नहीं (ये) परहेज़गारों की रहनुमा है (2)जो ग़ैब पर ईमान लाते हैं और (पाबन्दी से) नमाज़ अ...
clicks 32  Vote 0 Vote  7:10am 5 Apr 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013