आपका-अख्तर खान "अकेला"

उन्होंने अच्छे काम किए उनके लिए नेअमत के (हरे भरे बेहष्ती) बाग़ हैं

अलिफ़ लाम मीम (1) ये सूरा हिकमत से भरी हुयी किताबा की आयतें है (2)जो (अज़सरतापा) उन लोगों के लिए हिदायत व रहमत है (3)जो पाबन्दी से नमाज़ अदा करते हैं और ज़कात देत...
clicks 1  Vote 0 Vote  7:31am 13 Dec 2018

ख़ुदा ही (क़ादिर तवाना) है जो हवाओं को भेजता है

वह उससे पाक व पाकीज़ा और बरतर है ख़़ुद लोगों ही के अपने हाथों की कारस्तानियों की बदौलत ख़ुश्क व तर में फ़साद फैल गया ताकि जो कुछ ये लोग कर चुके हैं ख़़ुदा उन ...
clicks 0  Vote 0 Vote  7:54am 12 Dec 2018

जिन्होंने अपने (असली) दीन में तफरेक़ा परवाज़ी की

उसी की तरफ़ रुजू होकर (ख़ुदा की इबादत करो) और उसी से डरते रहो और पाबन्दी से नमाज़ पढ़ो और मुशरेकीन से न हो जाना (31) जिन्होंने अपने (असली) दीन में तफरेक़ा परवाज़...
clicks 3  Vote 0 Vote  7:20am 11 Dec 2018

मोहब्बत में आज में

मोहब्बत में आज मेंअपना सब कुछ हार आया हूँ ,वोह मुस्कुराहटें ,, वोह खिलखिलाहटेंवोह ज़िद , वोह अरमानवोह ख्वाब , वोह ख्वाहिशेंवोह सांसे ,,वोह धड़कने ,वोह रूहसब क...
clicks 9  Vote 0 Vote  6:58am 10 Dec 2018

वह बाग़े बेहेषत में निहाल कर दिए जाएँगे

ख़ुदा ही ने मख़लूकात को पहली बार पैदा किया फिर वही दुबारा (पैदा करेगा) फिर तुम सब लोग उसी की तरफ़ लौटाए जाओगे (11)और जिस दिन क़यामत बरपा होगी (उस दिन) गुनेहगार ल...
clicks 1  Vote 0 Vote  6:56am 10 Dec 2018

बेशक जो लोग ईमान लाए

अलिफ़ लाम मीम (1) ये सूरा हिकमत से भरी हुयी किताबा की आयतें है (2)जो (अज़सरतापा) उन लोगों के लिए हिदायत व रहमत है (3)जो पाबन्दी से नमाज़ अदा करते हैं और ज़कात देत...
clicks 36  Vote 0 Vote  6:57am 8 Dec 2018

हम (खेती की नुकसान देह) हवा भेजें फिर लेाग खेती को (उसी हवा की वजह से) ज़र्द (परस मुर्दा) देखें तो वह लोग इसके बाद (फ़ौरन) नाशुक्री करने लगें

और अगर हम (खेती की नुकसान देह) हवा भेजें फिर लेाग खेती को (उसी हवा की वजह से) ज़र्द (परस मुर्दा) देखें तो वह लोग इसके बाद (फ़ौरन) नाशुक्री करने लगें (51) (ऐ रसूल) तु...
clicks 1  Vote 0 Vote  7:18am 7 Dec 2018

उसी की तरफ़ रुजू होकर (ख़ुदा की इबादत करो)

उसी की तरफ़ रुजू होकर (ख़ुदा की इबादत करो) और उसी से डरते रहो और पाबन्दी से नमाज़ पढ़ो और मुशरेकीन से न हो जाना (31) जिन्होंने अपने (असली) दीन में तफरेक़ा परवाज़...
clicks 11  Vote 0 Vote  7:03am 6 Dec 2018

अल्फ़ाज़ों के ज़रिये पाठकों को सच सिर्फ सच परोसने वाले भाई पियूष जैन के लोकगमन होने की खबर से में आहत हूँ

पत्रकारिता के मूल्यों से कभी समझौता नहीं करते वाले ,पत्रकारिता की हर नब्ज़ को टटोलकर सिर्फ सिद्धांतक अल्फ़ाज़ों के ज़रिये पाठकों को सच सिर्फ सच परोसने वाल...
clicks 12  Vote 0 Vote  7:17am 5 Dec 2018

हमने (तुम्हारे समझाने के वास्ते) तुम्हारी ही एक मिसाल बयान की

और उसी की (क़़ुदरत) की निशानियों में से एक ये (भी) है कि उसने तुम्हारे वास्ते तुम्हारी ही जिन्स की बीवियाँ पैदा की ताकि तुम उनके साथ रहकर चैन करो और तुम लोग...
clicks 2  Vote 0 Vote  7:13am 5 Dec 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013