palash "पलाश"

स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

ना हार चाहिये ना गुलाब चाहियेस्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहियेजाने कब से तडप रही हूँबिन पानी के मछली सीअपने ही घर में सदा रहीअमानत किसी पराये कीना घर चाहि...
clicks 45  Vote 0 Vote  10:30pm 7 Mar 2018

कुछ दीवारें

कुछदीवारेजबउठतीहैंतोबनतेहैघरमगरहोतीहैकुछऐसीभीदीवारेजोबनादेतीहैघरकोमकानजिनकेखिचनेसेआजातीहैदराररिश्तोंमेंकहनेको घरकेबाहरलगीतख्तीहोतीहै...
clicks 37  Vote 0 Vote  11:26pm 20 Feb 2018

सबक

अच्छे कॉलेज में एडमीशन लेना जितना मुश्किल है उससे भी कही ज्यादा मुश्किल होता है वहाँ पर सर्वाइव करना, एक एक नम्बर पाने के लिये दिन रात एक करने पढते है। जब ...
clicks 8  Vote 0 Vote  8:06pm 8 Feb 2018

मुझसे मुहब्बत करने से पहले

मुझसे मुहब्बत करने से पहलेसुन लो मेरी दास्तापढ लो वो सारे पन्नेजिनमें बसे हैं कुछ महके पलकुछ बेबस आंसूंहाँ, खबर है मुझेकि कई महीनों से बन कर सायारहते हो ...
clicks 9  Vote 0 Vote  7:55pm 6 Feb 2018

पैकिंग

सुनो, अपना सामान बाँध लोआया हूँ मैं, तुम्हे लेने बस रख लो अपनी जरूरी चीजें बाकी मिलता तो है सब कुछ तो वहाँएक बात बताऊंयहाँ से बहुत कई गुना अच्छी ज...
clicks 10  Vote 0 Vote  9:55pm 3 Feb 2018

नवजीवन

बैठता हूँ तो घर पुराना याद हमको आ रहा हैंअहसास हो रहा कि बुढापा पास मेरे आ रहा है भीड भाड से भर गया मन, हुयी दावतों से बेरुखीयाद कर भूली बिसरी बातें, छा रह...
clicks 31  Vote 0 Vote  11:14pm 27 Jan 2018

निगाहें

हमे जिसने भी देखा, अपनी निगाह से देखामेरी निगाह से मुझे न किसी निगाह ने देखाये शिकायत सिर्फ मेरी नही, हर निगाह की हैपढकर कई निगाहों को मेरी निगाह ने देखाज...
clicks 27  Vote 0 Vote  4:53pm 23 Jan 2018

जिन्दगी वादा है तुमसे नये वर्ष का

जिन्दगीवादा है तुमसे,इस वर्षनही दूंगी तेरी आंखों में आंसूनही सिसकेगी तू चुपके चुपके रात में तकिये के नीचेनही मरेगी तिल तिलकिसी अत्याचारी के हाथनही होन...
clicks 33  Vote 0 Vote  2:50pm 30 Dec 2017

अपने अपने कर्म या अपने अपने भाग्य

कॉलेज की सीढियां उतर रही थी, मेरे नीचे की सीढियों पर दो गर्भवती स्त्रियां थी- एक मेरे साथ की ही अध्यापिका थीं और दूसरी थी कॉलेज में काम करने वाली एक मजदूर औ...
clicks 39  Vote 0 Vote  8:11pm 21 Dec 2017

कागज की टीस

लैपटाप पर काम करते करतेएकदिन अचानकयाद आया मुझे लिखना कागज पर बैठ गया लेकरअपना फेवरेटलेटर पैड और पेन जिसके पीले पन्ने दे रहे थे गवाहीमेरे और उसके रिश्ते ...
clicks 58  Vote 0 Vote  10:20pm 14 Dec 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013