palash "पलाश"

जिन्दगी, तब जिन्दगी बनती है

जिन्दगी, जिन्दगी तब नही बनतीजब आई आई टी या आई आई एम मेंसेलेक्शन हो जाता है जिन्दगी जिन्दगीतब भी नही बनती जब कोई आई ई एस अफसर बन जाता हैजिन्दगीजिन्दगी तो त...
clicks 41  Vote 0 Vote  12:14am 17 Nov 2017

प्रथम प्रश्न

सबसे पहला सवालजो पूछते बैठते हैंकई बार घर के सदस्यया कोई रिश्तेदारअबोध से बच्चे सेकौन है तुम्हे सबसे ज्यादा प्यारातुम मम्मी को ज्यादा प्यार करते होया ...
clicks 14  Vote 0 Vote  10:54pm 13 Nov 2017

तुम्हारा एक शब्द............

तुम्हाराएकशब्दपर्याप्तहैजगानेकोखोया आत्मविश्वासतुम्हाराएकशब्दकाफीहैखोदेनेकोसाराविश्वासतुम्हारा एक शब्दखुशियों काअन्नत भंडार तुम्हारा एक श...
clicks 7  Vote 0 Vote  9:22am 11 Nov 2017

जीतेने के लिये हारना जरूरी है

जीतने के लियेहारना जरूरी है जरूरी है अभिमान हारना राज्य ह्दयों पर करने कोजरूरी है हलाहल को पीनामानव से शिव होने कोराम सा बन पाने कोत्यागना जरूरी हैजीतन...
clicks 25  Vote 0 Vote  10:12am 8 Nov 2017

जीतने के लिये हारना जरूरी है

जीतने के लियेहारना जरूरी है जरूरी है अभिमान हारना राज्य दिलों पर करने कोजरूरी है विषपान करनामानव से शिव होने कोराम सा हो पाने कोत्याग भावना जरूरी हैजीत...
clicks 0  Vote 0 Vote  10:12am 8 Nov 2017

किताबेंकहने को कुछ नही कहतीमगर सिखा जाती है जिन्दगीकिताबेंजो जाती थीकभी बस्ते मेंमेरे साथ मेरे स्कूलकिताबेंजिन्हे सजाते थे कभी बासी कागज सेकभी र...
clicks 26  Vote 0 Vote  11:40pm 6 Nov 2017

किताबें

किताबेंकहने को कुछ नही कहतीमगर सिखा जाती है जिन्दगीकिताबेंजो जाती थीकभी बस्ते मेंमेरे साथ मेरे स्कूलकिताबेंजिन्हे सजाते थे कभी बासी कागज सेकभी र...
clicks 17  Vote 0 Vote  11:40pm 6 Nov 2017

अक्सर दिवाली में

साफ सफाई कें साथ उभरती धुंधली यादें अक्सर दिवाली मेंकभी किसी कोने से आ जातीमीठी बातें अक्सर दिवाली मेंघर कें स्टोर रूम में क्या क्या कब रखा था मै भूल गयी ...
clicks 29  Vote 0 Vote  9:29pm 2 Nov 2017

इट विल नेवर चेंज

लगभग १५ साल बाद अचानक फोन पर एक चिरपरिचित आवाज सुनाई दी। आवाज जिसे किसे परिचय की जरूरत हो ही नही सकती थी। सुगन्धा, मेरी क्लास मेट, शायद मेरे लिये उसका ये पू...
clicks 29  Vote 0 Vote  7:14pm 12 Oct 2017

तने की मजबूती

बेटी हूँ मैं,है मुझे अहसासपिता के मान काघर की आबरू हूँ मैंजानती हूँ फर्क बेटे और बेटी मेंसमझती हूँ चिन्ताएक पिता की मैऔर परिचित भी हूँसमाज के चरित्र सेन...
clicks 9  Vote 0 Vote  9:00pm 26 Sep 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013