अजित गुप्‍ता का कोना

अब कब 565?

हमारा  भारत है ना, यह 565 रियासतों से मिलकर बना है। अंग्रेजों ने इन्हें स्वतंत्र भी कर दिया था लेकिन सरदार पटेल ने इन्हें एकता के सूत्र में बांध दिया। ये श...
clicks 23  Vote 0 Vote  10:07am 9 Oct 2018

बैताल को ढोता विक्रमादित्य

मेरे अन्दर मेरी अनूभूति को समेटने का छोटा सा स्थान है, वह शीघ्र ही भर जाता है और मुझे बेचैन कर देता है कि इसे रिक्त करो। दूध की भगोनी जैसा ही है शायद यह स्था...
clicks 8  Vote 0 Vote  9:22am 8 Oct 2018

बता तू किसका भूत है?

आज सुबह मैं वेन्टीलेटर पर जाते-जाते बची! अभी ढंग से मुँह धोया भी नहीं था कि आदतन अखबार तलाशने के लिये निकल पड़ी, अखबार को हाथ में लेते ही लगा कि अब साँस रूकी ...
clicks 19  Vote 0 Vote  9:58am 1 Oct 2018

स्त्री पूर्ण पवित्र है, हर पल पवित्र है

कल एक और फैसला आया लेकिन पुरुषों ने इसपर ज्यादा तूफान नहीं मचाया। क्यों नहीं मचाया? क्योंकि इन्हें लगा कि यह मामला केवल सबरीमाला मन्दिर में महिलाओं के ...
clicks 21  Vote 0 Vote  9:15am 30 Sep 2018

बिना मालिक के भी कोई जीवन है?

हाय रे हाय, कल मुझसे मेरा मालिक छिन गया! कितना अच्छा तो मालिक था, अब मैं बिना मालिक के कैसे गुजरा करूंगी? मेरी आदत मालिक के पैरों में लौटने की हो गयी थी, उसकी ...
clicks 18  Vote 0 Vote  10:16am 28 Sep 2018

पाकिस्तान की ये सुन्दर लड़कियां क्या संदेश दे रही हैं?

अभी एशिया कप क्रिकेट हो रहा है, स्थान है संयुक्त अरब अमीरात। दुबई के प्रसिद्ध स्टेडियम पर मैच चल रहा है, कैमरामैन रह-रहकर पाकिस्तानी सुन्दर लड़कियों पर स...
clicks 3  Vote 0 Vote  10:25am 24 Sep 2018

मोगली को मनुष्य बताने में गलत क्या है?

मोगली की कहानी तो आपको याद ही होगी, क्या कहा, ध्यान नहीं है! जंगल-जंगल पता चला है, चड्डी पहनके फूल खिला है, याद आ गयी ना। तो एक कहानी थी कि एक मनुष्य परिवार का ...
clicks 25  Vote 0 Vote  9:02am 22 Sep 2018

स्वयंसेवक स्वयंभू संघ बन गया

एक युग पहले हम सुना करते थे कि आचार्य रजनीश ने स्वयं को भगवान माना। सदी बदल गयी तो हमारे लिये युग बदल गया। फिर भगवान घोषित होने और करने का सिलसिला शुरू हो ग...
clicks 2  Vote 0 Vote  9:55am 20 Sep 2018

हमारे मन में बसा है राजतंत्र

वाह रे लोकतंत्र! तू कहने को तो जनता के मन में बसता है लेकिन आज भी जनता तुझे अपना नहीं मानती! उसके दिल में तो आज भी रह-रहकर राजतंत्र हिलोरे मारता है। मेरे साम...
clicks 57  Vote 0 Vote  10:28am 18 Sep 2018

कहीं दीप जलेंगे – कही दिल

साँप-छछून्दर की दशा, मुहावरा तो आपने सुना ही होगा। एक साँप ने छछून्दर पकड़ लिया, अब यदि साँप छछून्दर को निगल लेता है तो वह अंधा हो जाता है और उगलना उसके वश म...
clicks 26  Vote 0 Vote  10:40am 15 Sep 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013