अजित गुप्‍ता का कोना

मित्र मिला हो तो बताना

दुनिया में सबसे ज्यादा अजमाया जाने वाला नुस्खा है – मित्रता। एलोपेथी,आयुर्वेद,होम्योपेथी,झाड़-फूंक आदि-आदि के इतर एक नुस्खा जरूर आजमाया जाता है वह है वि...
clicks 3  Vote 0 Vote  10:38am 6 Aug 2018

प्रेम का यही पुश्तैनी ठिकाना है #fatehsagar

कभी आप उदयपुर में राजीव गांधी पार्क के सामने फतेहसागर को निहारने के लिये खड़े हुए हैं? मुझे तो वह दृश्य दीवाना बनाता है। चारों तरफ अरावली पर्वतमाला की श्...
clicks 17  Vote 0 Vote  11:22am 4 Aug 2018

घरों पर लगते निशान!

बहुत दिनों पहले एक कहानी पढ़ी थी – एक गिलहरी की कहानी। सरकार का नुमाइंदा जंगल में जाता है और परिपक्व हो चले पेड़ों पर निशान बनाकर चले आता है। निशान का अर्...
clicks 4  Vote 0 Vote  10:28am 2 Aug 2018

सौंठ-अजवाइन खाने का प्रबन्ध खुद करो

कभी कुछ प्रश्न ऐसे उठ खड़े होते हैं जिनसे मन छलनी-छलनी हो जाता है। कुछ दृश्य सजीव हो उठते हैं लेकिन समाधान कहीं नहीं मिलता। कल ऐसा ही एक प्रश्न मेरी सखी Rashmi ...
clicks 17  Vote 0 Vote  9:29am 1 Aug 2018

बड़प्पन की चादर उतार दीजिए ना

लोग अंहकार की चादर ओढ़कर खुशियाँ ढूंढ रहे हैं, हमने भी कभी यही किया था लेकिन जैसे ही चादर को उठाकर फेंका, खुशियाँ झोली में आकर गिर पड़ीं। जैसे ही चादर भूले-...
clicks 20  Vote 0 Vote  11:04am 30 Jul 2018

बातें हैं तो हम-तुम हैं

बातें – बातें  और बातें,बस यही है जिन्दगी। चुप तो एक दिन  होना ही है। उस अन्तिम चुप के आने तक जो बातें हैं वे ही हमें जीवित रखती हैं। महिलाओं के बीच बैठ ज...
clicks 19  Vote 0 Vote  10:27am 28 Jul 2018

लेखक वहीं क्यों खड़ा है!

रोजमर्रा की जिन्दगी को जीना ही जीवन है और रोजमर्रा की जिन्दगी को लिखना ही लेखन है। रोज नया सूरज उगता है,रोज नया जीवन खिलता है,रोज नयी कहानी बनती है और रोज न...
clicks 25  Vote 0 Vote  11:26am 24 Jul 2018

मोदी को पकड़कर वैतरणी पार करना

लोकतंत्र में छल की कितनी गुंजाइश है यह अभी लोकसभा में देखने को मिली। कभी दादी मर गयी तो कभी बाप मर गया से लेकर ये तुमको मार देगा और वो तुमको लूट लेगा वाला छ...
clicks 12  Vote 0 Vote  11:41am 23 Jul 2018

काले बदरा और पहाड़ का मन्दिर

आँखों के सामने होती है कई चीजें लेकिन कभी नजर नहीं पड़ती तो कभी दिखायी नहीं देती! कल ऐसा ही हुआ,शाम को आदतन घूमने निकले। मौसम खतरनाक हो रहा था,सारा आकाश गहर...
clicks 13  Vote 0 Vote  10:51am 19 Jul 2018

अनावश्यक नुक्ताचीनी से बचो

चटपटी खबरों से मैं दूर होती जा रही हूँ,डीडी न्यूज के अतिरिक्त कोई दूसरी न्यूज नहीं देखती तो मसाला भला कहाँ से मिलेगा। आप लोग कहेंगे कि नहीं,दूसरे न्यूज चै...
clicks 23  Vote 0 Vote  10:12am 18 Jul 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013