रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

सामाजिक व्यवस्था के लिए जीवन मूल्यों की आवश्यकता

समाज में सदैव से किसी न किसी तरह के मूल्य चलन में रहे हैं. इनका उद्देश्य समाज को नियमबद्ध रूप से,एक आदर्शात्मक व्यवस्था के रूप में चलाना था. समाज अपने आपमे...
clicks 19  Vote 0 Vote  10:34pm 12 Oct 2021

हृदय को स्वस्थ और मजबूत रखें

आर्थिक रूप से सशक्त होने के लिए लोगों ने अपने शरीर की परवाह किये बिना धनोपार्जन की परवाह करना शुरू कर दिया. वैश्वीकरण के दौर ने इस काम में उत्प्रेरक का का...
clicks 22  Vote 0 Vote  11:14pm 29 Sep 2021

संवेदनहीन इंसान का विनाश निश्चित है

पिछले साल जब कोरोना की पहली दस्तक देश में हुई थी तो उसके बाद लगे लॉकडाउन के समय लोगों के विचार ऐसे बने जैसे अब वे बहुत कुछ सीख चुके हैं. इसके बाद जैसे ही अनल...
clicks 37  Vote 0 Vote  11:01pm 8 Sep 2021

खेलों से वास्तविक ख़ुशी पाने के लिए खुद को खेलों से जोड़ना होगा

आजकल ओलम्पिक की चर्चा है सभी जगह. जो लोग खेलों में रुचि रखते हैं,वे बहुत प्रसन्न नजर आ रहे हैं. उनकी ख़ुशी उस समय और भी देखने लायक होती है जबकि हमारी कोई टीम य...
clicks 36  Vote 0 Vote  11:32pm 2 Aug 2021

जब की गई थी हमारे पत्रों की जाँच

आज, 31 जुलाई को विश्व पत्र दिवस का आयोजन किया जाता है. हमारे छोटे भाई शरद इसे लेकर विगत कई वर्षों से एक अभियान छेड़े हुए हैं. चूँकि हमें पत्र लेखन का बहुत पुरा...
clicks 42  Vote 0 Vote  11:48pm 31 Jul 2021

रानी लक्ष्मीबाई का अंतिम युद्ध

बुन्देलखण्ड के इतिहास की बारीकियों से परिचित करवाने वाले देवेन्द्र सिंह जी की कलम से...+++++++++++++++++++१७ जुन,१८५८ महारानी लक्ष्मीबाई का बलिदान दिवस, आज १७ जून है ...
clicks 56  Vote 0 Vote  11:58pm 17 Jun 2021

बाल श्रम के प्रति सामाजिक नजरिया ही सही नहीं

बाल श्रम की जब भी बात होती है तब हम सभी सार्वजनिक रूप से अपने आदर्श स्वरूप में दिखने लगते हैं. जैसे ही बाल श्रम की बात ख़त्म होती है वैसे ही तुरंत सबकुछ भूल क...
clicks 35  Vote 0 Vote  11:55pm 12 Jun 2021

संवेदनहीन होकर हम मौत को एन्जॉय करने लगे हैं

आप में से बहुतों को शीर्षक पढ़कर आश्चर्य हुआ होगा. यदि ये कहें कि आश्चर्य से ज्यादा कुछ अजीब सी अनुभूति आई होगी, हमारे प्रति एक अलग तरह की ही सोच बनी होगी तो ...
clicks 35  Vote 0 Vote  9:14pm 1 Jun 2021

बच्चों का मनोबल बनें अभिभावक

कोरोना के संक्रमण गति बढ़ने के कारण देश में फिर एक बार लगभग सभी गतिविधियों पर विराम सा लगा हुआ है. बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी लोग घर पर रहते हुए ही अपने काम क...
clicks 52  Vote 0 Vote  3:41pm 16 May 2021
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019